logo
;
तरक्की से 20 साल पिछड चुका बीरेन्द्रनगर

तरक्की से 20 साल पिछड चुका बीरेन्द्रनगर

Published: 14 Sep, 2019

 रिपोर्टर प्रह्लाद साहू -

केबिनेट मंत्री मोहम्मद अकबर के वर्ष 2003 में निर्वाचन क्षेत्र वीरेन्द्रनगर किसी नाम मोहताज नहीं यही वीरेन्द्रनगर विधानसभा क्षेत्र है जहा से मोहम्मद अकबर चुनाव जीत कर प्रथम बार मंत्री बने थे।

राजनांदगांव जिले के समय वीरेन्द्रनगर के नाम से वीरेन्द्रनगर विधानसभा था जो सीमांकन के बाद कवर्धा विधानसभा और पंडरिया विधानसभा में विभक्त हो गया ,प्रदेश के धाकड़ नेता का पुराना निर्वाचन क्षेत्र होते हुए भी वीरेन्द्रनगर जनप्रतिनिधियों व अधिकारियो के अनदेखी एवम् उदाशीनता के कारण मुलभुत सुविधाओ से भी वंचित हो रहा है। ग्राम की जनता के मन में सवाल है।  

   इसे जनप्रतिनिधियों की लापरवाही ही कहे की शासकीय भवन बीरेन्द्रनगर के नाम से पास होकर आता है और बनता है। रणवीरपुर मे,जिसका ताजा उदाहरण रणवीरपुर रोड किनारे बने सबस्टेशन को देख कर लगाया जा सकता है जो निर्माण कार्य पुर्ण होने के पश्चात बोर्ड पर रणवीरपुर का ही नाम दिया  था। बाद मे उसे मेटने की कोशिश कर उपर से बीरेन्द्रनगर लिखा गया सहसपुर ब्लाक का बीरेन्द्रनगर सबसे बडा ग्राम पंचायत होने के बावजुद छोटी छोटी सुविधा से वंचित है यहां की जनसंख्या आकडे के अनुसार लगभग छै हजार से भी जादा पार कर गये होंगे और वोटर लगभग दो हजार से जादा होगा जबकी पुर्व मे विधान सभा क्षेत्र भी रह है बावजुद तरक्की के नाम पर 20 साला पिछल चुका है सुविधाओं की बात करे तो ना ही कोई अच्छा हास्पीटल बन पाया और ना ही बस स्टेशन सबसे जादा जरूरत था तो ओ बैंक था क्योकि बीरेन्द्रनगर सहिंत आसपास के कई गांव कृषि पर ही निरभर करता है ऐसे मे छोटे छोटे जरूरतो को पुरा करने के लिऐ किसान को बैक की लंबी देरी तय करना पडता है। और ना ही शुघ पेय जल से लेकर गांव कि गलियों मे पक्की सडकें.और ना ही लाईट यही हकीकत है ब्लाक का सबसे बडा गांव और  पुर्व विभान सभा बीरेन्द्रनगर का एक तो यहां कुछ नया बनता ही नही और नये निर्माण के लिऐ आता भी है तो कहीं बाहर गांव मे सलेकशन होकर बाहर ही बन जाता है केवल कागजों पर नाम चड जाता है बीरेन्द्रनगर का इस गांव से इस तरह की नजर अंदाज क्यों जबकी छोटे छोटे गांव मे ऐ सारी सुविधाऐं उपलब्ध हो चुकी है तो फिर पुर्व मे विधानसभा क्षेत्र रहते हुऐ और ब्लाक का सबसे बडा ग्राम पंचायत होते हुऐ भी इस तरह की सुविधा से क्यों वंचित होना पड रहा है यहां के लोगो को क्या सरकार नही चाहती की यहां सुविधा हो गांव डबलब करें या फिर गांव का मुखिया पंच सरपंच। यह बात लोगो की समझ से परे है आखिर क्यो पिछड गया पुर्व विधनसभा एवं ब्लाक का सबसे बडा गांव कहे जाने वाला बीरेन्द्रनगर नगरपंचायत बनने के लायक है फिर भी असुविधा से घिरा हुआ है।



YOU MIGHT ALSO LIKE

राष्ट्रीय मानसिक स्वास्थ्य कार्यक्रम का शुभारंभ

राष्ट्रीय मानसिक स्वास्थ्य कार्यक्रम का शुभारंभ

बाल संसद सम्मेलन बेरला पहुँचे विधायक छाबड़ा’

बाल संसद सम्मेलन बेरला पहुँचे विधायक छाबड़ा’

वक्ता मंच द्वारा वर्षा गौतम का किया गया सम्मान

वक्ता मंच द्वारा वर्षा गौतम का किया गया सम्मान

Recent News

Advertisement

© Copyright YamrajNews 2019. All Rights Reserved.