logo
;
गोबर के गमले में अब खिलेगी फुलवारी

गोबर के गमले में अब खिलेगी फुलवारी

Published: 29 Sep, 2019

 कृषि विज्ञान केन्द्र ने नर्सरी में तैयार किया

रिपोर्टर विजय कुमार डाहीरे -

बेमेतरा - केन्द्र सरकार की बहुचर्चित योजना ’’स्वच्छता अभियान ’’ की तरफ एक और कदम बढ़ाते हुये कृषि विज्ञान केन्द्र ने गोबर के गमले तैयार कर लिये हैं। हमारी पृथ्वी के अस्तित्व पर प्लास्टिक का उपयोग एक बहुत बड़ा प्रश्न चिन्ह हैं। पौंध तथा नर्सरी को तैयार करने हेतु प्लास्टिक के गमले तथा झिल्लियो का उपयोग शहर तथा ग्रामों में बहुतायत में होता हैं। गोबर के गमले इसका एक बेहतर विकल्प हैं जो पर्यावरण को हानि के जगह लाभ पहुचाऐगा। कृषि विज्ञान केन्द्र द्वारा तैयार गोबर के गमले से पौंधों को पोषण से परिपूर्ण माध्यम प्राप्त होगा जिससे पौंधे बेहतर तरिके से वृद्वि करेंगे। इसके अलावा कृषि विज्ञान केन्द्र के द्वारा डिजाइनर गोबर के कन्डे तथा हर्बल धूब बत्ती का भी निर्माण हेतु प्रयासरत हैं। स्वसहायता समूहों को इन उत्पादों का प्रशिक्षण देकर आर्थिक सदृढ़ता लाना कृषि विज्ञान केन्द्र प्रमुख ध्येय हैं। इस गमले के निर्माण में कृषि विज्ञान केन्द्र के वरिष्ठ वैज्ञानिक एवं प्रमुख डॉ.. के. पी. वर्मा, डॉ.वेधिका साहू, डॉ.एकता ताम्रकर, डॉ.चेतना बंजारे, डॉ.. प्रज्ञा पाण्डेय एवं ईं. जितेन्द्र जोशी का योगदान हैं।


YOU MIGHT ALSO LIKE

बीजेपी सांसद मीनाक्षी लेखी बोलीं- प्लास्टिक की बोतलें और गिलास छोड़ो, चुल्लू बनाकर पानी पीयो

बीजेपी सांसद मीनाक्षी लेखी बोलीं- प्लास्टिक की बोतलें और गिलास छोड़ो, चुल्लू बनाकर पानी पीयो

कावरियो के बिना सुना-सुना जिले के शिव-धाम

कावरियो के बिना सुना-सुना जिले के शिव-धाम

चेन्नई से लापता 20 साल बाद जब अमेरिका में मिला

चेन्नई से लापता 20 साल बाद जब अमेरिका में मिला

Recent News

Advertisement

© Copyright YamrajNews 2019. All Rights Reserved.