logo
;
करोडो की वृक्षारोपण को चट कर रहे है,गुजरती भेड़ बकरी पालक चरवाहे

करोडो की वृक्षारोपण को चट कर रहे है,गुजरती भेड़ बकरी पालक चरवाहे

Published: 31 Jul, 2019

    करोडो की वृक्षारोपण को चट कर रहे है,गुजरती भेड़ बकरी पालक चरवाहे

कवर्धा – जिले के विभिन्न वन परिक्षेत्र में बड़ी तादाद में वर्षा ऋतू के प्रारंभ होने के साथ साथ गुजरती भेड़ बकरी पालक चरवाहे भेड़ बकरी व ऊट के साथ जिले के जंगलो में पहुचते है जिनके 50 से 100 डेरा होने का अनुमान है जिसमे प्रत्येक डेरे  में हजार से ज्यादा पशु होते है वाही पुरे वर्षा काल व शीत ऋतू में जंगल में घूम घूम कर पशु चराते है जिसके चलते बड़ी संख्या में प्राकृतिक रूप से उगने वाले पौधे व रोपित किये पौधे इनकी चराई में नष्ट हो जाते है या इनके रौदे जाने के कारण ख़त्म हो जाते है ।

वन वासियों के पालतू पशु व वन जीवो का ख़त्म हो रहा है चारा – वन के सिमीत हो जाने व बाहरी पशु पलकों के द्वरा अत्यधिक चराव की वजह से यहाँ के स्थानीय पशु पलकों व् वन्यजीवों को चारे के पूर्ति में बाधा पहुचती है, कुछ जगह इसी वजह से स्थानीय पशु पलकों के साथ इनकी झड़प भी होती है जिसके चलते वन्य पशु गाँवो की ओर पलायन करते है।  

वन विभाग के अधिकारियो की मिली भगत से चल रहा है वर्षो से पेशा –सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार  उक्त अवैध चराई का कार्य बड़ी संख्या में जिले के सभी वन परिक्षेत्रो में चल रहा है जिसकी जानकारी विभाग के सभी रेंजरो और एस डी ओ पी को होती है वन गार्ड बाकायदा वसूली कर अला अधिकारियो तक उसका हिस्सा पहुचाते है इस तरह से चलता  रहा तो करोडो रूपए की वन क्षेत्र में वृक्षा रोपण सिर्फ दिखावा बन कर रह जाएगा ।


YOU MIGHT ALSO LIKE

छत्तीसगढ़ स्वाभिमान मंच का जिले में सदस्यता अभियान की सुरुवात

छत्तीसगढ़ स्वाभिमान मंच का जिले में सदस्यता अभियान की सुरुवात

जिले के  नगर पालिका व नगर पंचायत के वार्डो का आरक्षण की घोषणा

जिले के नगर पालिका व नगर पंचायत के वार्डो का आरक्षण की घोषणा

कावरियो के बिना सुना-सुना जिले के शिव-धाम

कावरियो के बिना सुना-सुना जिले के शिव-धाम

Recent News

Advertisement

© Copyright YamrajNews 2019. All Rights Reserved.